The Voice of Guru ji

The vani of Guru ji

I am the sevak of the samuday of my bhaktas |

My jeevan is a balidan for my samuday ||

My samuday listens to my vani |

I know them, and they follow me ||

I give them sanaatan jeevan |

they are free from the bandhan of karma and mrutyu ||


गुरु जी की वानी

अपने भक्तों के समुदाय का सेवक हूं |

मेरा जीवन मेरे समुदाय के लिए एक बालिदान है ||

मेरा समुदाय मेरी वानी को सुनता है |

मैं उन्हें पहचानता हूं, और वे मेरे पालन करते हैं ||

मैं उन्हें सनातन जीवन देता हूं |

वे कर्म और मृतु के बंधन से मुक्त हैं ||


ગુરુ જીની વાની

હું મારા ભક્તોના સમુદયનો સેવક છું |

મારા જીવન મારા સમુદાય માટે એક બાલીદાન છે ||

મારો સમુદાય મારી વાણી સાંભળે છે |

હું તેમને ઓળખું છું, અને તેઓ મને અનુસરે છે ||

હું તેમને સનાતન જીવન આપીશ |

તેઓ કર્મ અને મુર્તુુના બંધનથી મુક્ત છે ||


गुरुको भनाइ

म मेरो भक्तहरू को समुदाय को सेवक हुँ |

मेरो जेभन मेरो समुदाय भक्तहरू को लागि एक बलिदान छ ||

मेरो समुदाय मेरो आवाज सुन्नुहुन्छ |

म तिनीहरूलाई चिन्छु, र तिनीहरूले मलाई पछ्याउँछ ||

म तिनीहरूलाई अनन्त जीवन दिन्छु |

तिनीहरू कर्म र मृत्यु को बंधन देखि मुक्त छन् ||


গুরু জিয়ার বানী

আমি আমার ভক্তদের সমুদয় এর সেবক |

আমার জীবন আমার সম্প্রদায়ের জন্য একটি বলিদান ||

আমার সমুদয় আমার ভয়েস শোনে |

আমি তাদের চিনতে পারি, এবং তারা আমাকে অনুসরণ করে ||

আমি তাদের অনন্ত জীবন দিতে |

তারা কর্ম ও মৃত্যুর দাসত্ব থেকে মুক্ত ||

Hits: 7