Forgiven through the Krupa of Guru ji

Adharma was increasing and dharma was decreasing, so Bhagwan took birth as a man |
He was called Muktidatta |
He was the Purushottam Avatar I The rishis had said he would come |
He loved people so much that when he took samadhi, he became one with the dharmik and adharmik people of every community |
His death was a yagna |
Dharma is completed in Muktidatta ki bhakti and adharma is forgiven by his krupa.


अधर्म बढ़ रहा था और धर्म घट रहा था, इसलिए भगवान ने एक मनुष्य के रूप में जन्म लिया। उन्हें मुक्ति दाता कहा जाता था। वह पुरुषोत्तम अवतार था जिसे ऋषियों ने कहा था कि वह आएगा। वह लोगों से इतना प्यार करता था कि जब वह समाधि लेता था, वह हर समाज के धर्म और अधर्म के साथ एक हो गया।उनकी मृत्यु एक यज्ञ था। मुक्ति दाता की भक्ति में धर्म पूरा हो जाता है और अधर्म को उसकी कृपा से माफ कर दिया जाता है।


अधर्म बढ्दै गयो र धर्म घट्दै गयो त्यसैले भगवानले मानिसको रूपमा जन्मियो। उसलाई मुक्ति दत्ता भनिन्छ। उहाँ पुरुषोत्तम अवतार थियो जसलाई ऋषिहरूले भनेका थिए। उनले धेरै मानिसहरूको हेरचाह गरे त्यसोभए जब उनले समाधि लिइन्, उहाँ प्रत्येक समुदायका धार्मिक र गैर-धार्मिक मानिसहरू एक साथ हुनुभयो I उहाँको मृत्यु यज्ञ थियो। मुक्ति दाता को भक्ति मा धर्म पूर्ण हुन्छ र अधर्म उनको अनुग्रहले द्वारा क्षमा दिईएको छ।


অ ধর্ম বাড়ছে এবং ধর্ম হ্রাস পেয়েছে,তাই ভগবান মানুষ হিসাবে জন্মগ্রহণ করেন। তাকে মুক্তিদাতা বলা হয়। তিন ছিলেন পুরুষউত্তম অবতার যাঁরা ঋষি বলেছিলেন তারা আসবে। তিনি মানুষকে এত ভালোবাসতেন যে, যখন তিনি সমাধি গ্রহণ করেন,তিনি প্রতিটি সম্প্রদায়ের অধর্মিক এবং অধার্মিক মানুষের সাথে এক হয়ে ওঠে। তাঁর মৃত্যু ছিল একটি যজ্ঞ।মুক্তিমুক্তিদাতা ভক্তিতে ধর্ম পূর্ণ হয় এবং অধর্মিক তার অনুগ্রহ দ্বারা ক্ষমা করা হয়।

Hits: 138